प्रेगनेंसी में सर्दी और जुकाम

    0
    52
    How To Manage Cold Or Cough During Pregnancy - Udta Social Official

    गर्भावस्था के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है इसलिए अक्सर ऐसा होता है कि महिलाएं सर्दी जुकाम की चपेट में आसानी से आ जाती हैं। इसके अलावा ये सर्दी ज़ुकाम सामान्य से अधिक दिन तक चलता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी होने के कारण इससे बचना भी मुश्किल होता है। इसलिए जरूरी है कि आप ये जान लें कि इस दौरान अगर ये बीमारी लगती है तो कैसे इलाज़ किया जाए।

     

    कैसे सर्दी लगने से बचा जा सकता है ?

    सर्दी-ज़ुकाम से बचना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि ये बहुत जल्दी फैलता है।

    अगर किसी को भी ये संक्रमण है तो आपको ये संक्रमण हो सकता है। इसके अलावा अगर उस व्यक्ति ने कोई सामान का इस्तेमाल किया है तो उससे भी आपको ये बीमारी लग सकती है। लेकिन इन बातों का ध्यान रखकर आप इस बीमारी से बच सकते हैं-

    संक्रामित व्यक्ति के संपर्क से दूर रहें
    अगर किसी को ये संक्रमण है तो अपने हाथ कुछ भी छूने के बाद साबुन से धुलें
    अगर किसी को संक्रमण है तो उसे टिशू का इस्तेमाल करने को बोलें, जब छींक आए तो टिशू का इस्तेमाल करें और तुरंत उसे कचरे के डिब्बे में डालने और हाथ धुलने के लिए निवेदन करें।
    दरवाजे के हैंडिल, टोटी (नल), और फोन की सफाई करते रहें
    किसी के साथ बर्तन जैसे की कप, प्लेट और गिलास सांझा न करें
    अपना तौलिया भी किसी से सांझा न करें और उसे जल्दी साफ करें
    ध्यान रखें कि आप पौष्टिक आहार ले, भरपूर नींद लें और व्यायाम भी करें
    बिना भूले अपना प्रीनेटेल विटमिन लें

     

    कैसे करें गर्भावस्था में सर्दी की देखरेख ?

    ये सुझाव आपको कर सकते हैं मदद-

    पर्याप्त आराम – सात से आठ घंटे की अच्छी नींद और अच्छे तरीके से आराम करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है। इससे बीमारी के लक्षण भी कम होते हैं।

    पानी पीना – भरपूर मात्रा में पानी पीएं ताकि शरीर को पानी की कमी न हो। इसके साथ ही जूस, सूप भी लें।

    अच्छा आहार लें – पौष्टिक आहार हमेशा प्रतिरोधक प्रणाली को मजबूत बनाता है। इससे जल्दी आराम मिलता है इसलिए थोड़ा -थोड़ा पौष्टिक आहार छोटे अंतराल पर लेते रहें।

    बंद नाक की करें देखरेख – नाक बंद होने से बहुत परेशानी होती है। इससे राहत पाने के लिए दिन में दो से तीन बार भाप लें । इसके अलावा आप नेसल स्प्रे और वैपोरप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

    खांसी की करें देखभाल – गले की खराश से राहत पाने के लिए दिन में दो तीन बार नमक के पानी से गरारा करें। इसके अलावा गुनगुना पानी पिएं साथ ही पानी में नींबू, और शहद भी मिलाकर पी सकते हैं।

    दवाएं- इस दौरान किसी प्रकार की दवा खुद से न लें इससे आपके बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है। बेहतर होगा कि डॉक्टर की सलाह लें और फिर दवा लें। हो सकता है कि डॉक्टर आपको पैरासिटामॉल लेने की सलाह दे ताकि आपको बुखार, बदन दर्द और सिर दर्द से राहत मिले। इसके अलावा थ्रोट लोसेंजेस गले की खराश के लिए और खांसी के लिए किसी सिरप की सलाह दें।

     

    क्या सर्दी का असर बच्चे पर भी पड़ सकता है ?

    कभी कभार अगर सर्दी ज़ुकाम होता है तो इसका असर बच्चे पर नहीं पड़ता है। इस दौरान सामान्य सर्दी की चपेट में आना आम है। सर्दी की वजह से गर्भवती महिलाओं को कई सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पर इसका इलाज हो सकता है और इसका कोई साइड इफेक्ट भी नही होता है।

     

    कब जाएं डॉक्टर के पास ?

    जब आपको सर्दी के कारण सोने में परेशानी हो
    लक्षण लगातार गंभीर होते जा रहे हैं और कोई आराम नहीं मिल रहा हो
    अगर आपको एक सौ दो डिग्री (1020F) से अधिक बुखार है तो
    बदरंग कफ और सीने में दर्द होने पर

    आपके लक्षण और कुछ जांच के बाद डॉक्टर आपकी अवस्था को ध्यान में रखकर, एंटीबायोटिक दवाएं दे सकते हैं। जिसमें ऐसी दर्द निवारक दवा भी शामिल हो सकती है जो आपके गर्भ के लिए एकदम सुरक्षित हो और उसका आपके गर्भ पर कोई असर नहीं पड़े ।

     

    Source: modasta.com

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here