क्रिकेटर केदार जाधव बायोग्राफी

0
46
Kedar-Jadhav-Biography - Udta Social Official

केदार महादेव जाधव का जन्म 26 मार्च 1985 को एक माध्यम वर्ग के परिवार में पुणे में हुआ। वैसे केदार जाधव बचपन से ही क्रिकेट की तरफ़ ध्यान देना शुरू किया।

 

केदार जाधव का करियर – Kedar Jadhav Career

2012 में जाधव ने 327 रन बनाकर उनके करियर का पहल तिहरा शतक रणजी ट्राफी में बनाया।ऐसा स्कोर बनानेवाले वो महाराष्ट्र के दुसरे बल्लेबाज बने। उन्होंने पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में उत्तर प्रदेश के खिलाफ 327 रन बनाए थे।

2013-14 के रणजी ट्राफी में जाधव का शानदार प्रदर्शन रहा जहापर उन्होंने 1223 रन बनाए। इसमें उन्होंने 6 शतक बनाए थे। उस श्रुंखला में वो सबसे ज्यादा रन बनानेवाले बल्लेबाज थे और रणजी के इतिहास के सबसे ज्यादा रन बनानेवाले बल्लेबाजो में वो नंबर चार पे थे।

 

जिसकी वजह से 1992-93 से पहली बार महाराष्ट्र की टीम रणजी के फाइनल मैच में पहुच सकी। जाधव इंडिया ए और वेस्ट जोन के टीम का भी प्रतिनिधित्व करते है।

2014 में बांग्लादेश के दौरे के लिए उनका नाम भारतीय टीम में शामिल किया गया था। लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला।

 

नवम्बर 2014 में उन्होंने पहला मैच श्रीलंका के खिलाफ खेला था। रांची में खेले गए उस पाचवे मैच में उन्होंने 24 गेंदों में 20 रन बनाए थे। उस शृंखला में भारत ने पहली बार श्रीलंका को 5-0 से हराया था।

2015 में जाधव ने ज़िम्बाब्वे के तीनो एकदिवसीय मुकाबले खेले। हरारे में खेले गए तीसरे मैच में उन्होंने केवल 87 गेंदों में नाबाद 105 रन बनाकर ओडीआई का पहला शतक बनाया था। भारत ने वहापर 3-0 से श्रुंखला जीती थी। वहापर उन्होंने टी20 का पहला मैच भी खेला था।

 

जनवरी 2017 में जाधव ने केवल 76 गेंदों में 120 रन बनाये थे। उन्होंने उस समय विराट कोहली के साथ मिलकर 200 रनों की साझेदारी बनाकर पुणे के एमसीए स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ जीत दर्ज की थी।

उसी श्रुंखला के तीसरे मैच में उन्होंने केवल 76 गेंदों में 90 रन बनाए जिसकी वजह से उन्होंने लगभग भारत को 320 लक्ष्य तक पहुचाने में बहुत मदत की लेकिन पारी के आखिरी गेंद पर उन्हें आउट कर दिया गया और भारत थोडेसे रनों से हार गया मगर उनके उस प्रदर्शन से उन्होंने मिडिल आर्डर में अपनी ख़ुद की जगह बना ली थी।

 

उस श्रुंखला में जाधव को मेन ऑफ़ द सीरीज से सम्मानित किया गया था क्यु की उन्होंने वहापर 332 रन बनाए थे। 2017 में इंग्लैंड में खेले गए आई सी सी चैंपियंस ट्राफी में उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया और तबसे वो भारतीय टीम का महत्त्वपूर्ण हिस्सा बन चुके है।

2014 के आई पी एल के सीजन में उन्होंने 10 पारियो में केवल 149 रन ही बनाए थे। 2016 का आई पी एल शुरू होने से पूर्व उन्हें रॉयल चैलेंजर बंगलौर को सौप दिया गया था।

 

Original Source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here