खांसी ठीक नही होने के 8 कारण

    0
    71
    8 reasons not to cure cough - Udta Social Official

    सर्दी के महीनों में खांसी और सर्दी सामान्य स्वास्थ्य समस्या है। इसलिए, शायद ही कोई व्यक्ति इस खांसी और सर्दी से बच पता होगा। तापमान में गिरावट के कारण, बहुत से लोग, विशेष रूप से पुराने सीओपीडी या अन्य फेफड़े की समस्याएं, जैसे कि अस्थमा, एक दर्दनाक खांसी से जूझते नज़र आते हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि दवाओं के बावजूद आपकी खांसी में सुधार नहीं हो रहा है, तो आपके पास डॉक्टर से मिलने और दवाई लेने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है। आज हम आपको ऐसे ही खांसी ठीक न होने के कारण बताएंगे।

    खांसी ठीक नही होने के 8 कारण

     

    एलर्जी और अस्थमा

    खांसी अक्सर अस्थमा और एलर्जी का एक संकेत है, हालांकि अन्य स्वास्थ्य समस्याएं, जैसे एसिड रिफ्लक्स और अवरोधक स्लीप एपनिया भी एक पुरानी खांसी का कारण है।

    यह धूम्रपान करने वालों में अधिक होने की संभावना रहती है, लेकिन खांसी में, आगे की समस्याओं से बचने के लिए इसे चिकित्सक द्वारा जांचना हमेशा बेहतर होता है, क्योंकि ठंड भी अस्थमा का दौरा शुरू कर सकती है।

     

    जीवाणु संक्रमण

    कभी-कभी, बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण खांसी, छींकने, आदि लक्षणों को जन्म दे सकते हैं। सर्दी के बाद जीवाणुओं के लिए आपके वायुमार्ग पर आक्रमण करना आसान हो जाता है, जिससे साइनस संक्रमण, ब्रोंकाइटिस और न्यूमोनिया हो सकता है।

    अगर आपको खांसी के साथ बुखार या दर्द हो, तो अपने चिकित्सक को जरूर दिखाएं। संक्रमण में आपको एंटीबायोटिक लेने की आवश्यकता हो सकती है।

    Tuberculosis (TB): Types, Symptoms, and Risks

     

    ट्यूबरक्लोसिस

    आप अच्छी तरह जानते हैं, कि तीन सप्ताह से अधिक खांसी ट्यूबरक्लोसिस का संकेत हो सकता है। जबकि कुछ पुराने टीबी संक्रमण वाले व्यक्तियों में टीबी लक्षण नहीं होते हैं, फिर भी उन्हें इलाज की आवश्यकता होती है।

    यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि रोगी जब तपेदिक बुखार से ग्रस्त होता है, तो टीबी जीवाणु उसके शरीर में फिर से सक्रिय हो जाते हैं और संक्रमण कर सकते हैं।

     

    गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग

    गैस्ट्रोएसोफेजल रिफ्लक्स एक सूखी, स्पासमोडिक खांसी और पुरानी खांसी का दूसरा सबसे आम कारण हो सकता है। प्रोसेस्ड फूड और शुगर की बड़ी मात्रा में खाने से भी गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग को बढ़ाया जा सकता है, क्योंकि यह आपके पेट और आंत में बैक्टीरियल संतुलन ख़राब करते हैं।

     

    क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज

    अगर आप सीओपीडी के कारण लंबे समय से खांसी और बहुत सारे बलगम को झेल रहे हैं, तो आपकी खांसी हानिकारक हो सकती है। इससे आपको श्वास की कमी, घरघराहट, थकान और सीने में जकड़न भी हो सकता है। धूम्रपान सीओपीडी, एम्फीसीमा और पुरानी ब्रोन्काइटिस का एक प्रमुख कारण है।

    एम्फीसीमा में, आपके फेफड़ों में हवा के थैले उनकी लचक खो देते हैं और खराब होने लगते हैं। क्रोनिक ब्रोन्काइटिस तब होता है जब आपके फेफड़ों की परत में सूजन होती है और यह सूजन आपके श्वास को रोकती है।

     

    निमोनिया

    निमोनिया एक शुष्क खांसी के रूप में शुरू होता है, जोकि पीली, हरी, या लाल बलगम के साथ गीली खांसी में बढ़ती है। निमोनिया एक वायरस या बैक्टीरिया के कारण हो सकता है, और कभी-कभी कुछ एंटीबायोटिक दवाएं, वायरल निमोनिया के लिए प्रभावी नहीं होती हैं। बुजुर्ग या छोटे बच्चों में, न्यूमोनिया के लिए तरल पदार्थ, श्वास लेने के उपचार और ऑक्सीजन थेरेपी के लिए अस्पताल में भर्ती भी कराया जा सकता है।

     

    रक्तचाप दवाइयां

    यदि आप उच्च रक्तचाप के लिए एसीई अवरोधक दवाइयां लेते हैं, तो कभी-कभी यह आपकी खांसी ठीक नहीं होने देती हैं। एसीई इनहिबिटर लेने वाले मरीजों में एक पुरानी, शुष्क खांसी को, रक्तचाप की दवाइयों के साइड इफेक्ट के रूप में पहचाना जाता है। यदि आपको ऐसे दुष्परिणाम मिलते है, तो दवाई को न रोकें, बल्कि अपने डॉक्टर से बात करें। कोई अन्य दवा आपके लिए बेहतर काम कर सकती है।

     

    Original Source

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here