एक नियम के चलते विवादों में फंसे आमिर खान, लोगों ने कहा-इनकी फिल्मों का होगा बहिष्कार

0
92
Aamir Khan New Look - Udta Social Official

बॉलीवुड के ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ आमिर खान एक प्रतियोगिता के नियम के चलते विवादों में फंस गए हैं। बता दें, ‘सिनेस्तान इंडियाज स्टोरीटेलर्स’ प्रतियोगिता के लिए बनाया गया एक नियम भारतीय संविधान का उल्लंघन करने वाला है। माना जा रहा है कि यह नियम भारतीय संविधान का उल्लंघन करता है। जिससे हिंदी भाषा का अपमान होता है।

 हिंदी भाषा के इस अपमान को देखते हुए हिंदी के विद्वान नाराज हो गए हैं।

जिसके बाद उन्होंने प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल के सदस्य अभिनेता आमिर खान से सफाई मांगी है। इन लोगों ने प्रतियोगिता के आयोजक और निर्णायक मंडल पर जानबूझकर हिंदी का अपमान करने का आरोप लगाया है। जिसके बाद ये लोग चाहते हैं कि आयोजक और निर्णायक मंडल के सदस्यों को इस पर माफी मांगनी चाहिए।

 दरअसल सिनेस्तान नामक वेब पोर्टल ने ‘सिनेस्तान इंडियाज स्टोरी टेलर्स’ प्रतियोगिता का आयोजन किया है। प्रतियोगिता में पटकथा भेजने के लिए 16 नियम बनाए गए हैं। आखिरी नियम में कहा गया है कि प्रतियोगिता की पटकथा रोमन लिपि में लिखी होनी चाहिए। इस प्रतियोगिता में देवनागरी में लिखी पटकथा को मंजूर नहीं किया जाएगा। जबकि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 (1) में स्पष्ट लिखा गया है कि संघ की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी होगी।

 डॉ. करुणाशंकर उपाध्याय ने कहा कि बॉलिवुड अभिनेताओं को पहचान हिंदी फिल्मों से ही मिलती है। उनका कहना है कि ये लोग हिंदी की रोटी खाते हैं, लेकिन रोमन में लिखकर उसका अपमान करते हैं। जब भारतीय संविधान ने संघ की राजभाषा हिंदी और लिपि को देवनागरी माना है, तो कोई भी हिंदी को रोमन में लिखने के लिए बाध्य कैसे कर सकता है।

 उपाध्याय के मुताबिक, हिंदी का अपमान करने वालों का बहिष्कार होना चाहिए। अगर आमिर खान पूरे मामले में सफाई नहीं देते हैं, तो हिंदी भाषियों को उनकी फिल्मों का बहिष्कार करना चाहिए। बता दें, सिनेस्तान वेब पोर्टल द्वारा आयोजित प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल के सदस्यों में आमिर खान, राजू हिरानी, जूही चतुर्वेदी और अंजुम राजाबाली शामिल हैं।

Source