दुनिया में इस किस्म के हैं केवल और केवल 40 लोग देख लो कहीं आप उनमे से एक नहीं..??

0
192
duniya-m-h-iss-kisam-k-log

दुनिया की आबादी बहुत ज्यादा है,फिर भी हर इन्सान दुसरे इन्सान से शारीरिक रूप में अलग है हमारे शरीर में बहुत सारे ऐसे रहस्य है जिनके बारें मे हम खुद नहीं जानते होंगे हमारे शरीर का प्रत्येक भाग रहस्यों से भरा हुआ है आज विज्ञान भले कितना ही आगे निकल गया हो लेकिन आज भी बहुत सी ऐसी बातें पीछे रह गयी है जिसे उसे पता लगाना हैं,विज्ञान लगातार इसी दिशा में आगे बढ़ रहा है आप लोग ब्लड ग्रुप के बारें में तो जानते ही होंगे आज हम आपको एक ऐसे ब्लड ग्रुप के बारें में बताने जा रहें जिसे जान कर चौंक जायेंगे आप, तो आइए जानते है इसके बारे में….

All About Blood Groups

हम सभी के ब्लड ग्रुप में वैरिएशंस होती है। A, B और o यह ब्लड के टाइप होते हैं इसमें O नेगेटिव ब्लड ग्रुप को दुनिया में सबसे दुर्लभ श्रेणी में रखा जाता है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की इसके अलावा भी कई ब्लड ग्रुप होते हैं जिन्हें दुनिया में सबसे दुर्लभ श्रेणी  में रखा गया है|

 

इनमें से एक है बॉम्बे ब्लड ग्रुप। भारत में प्रति 10 हजार लोगों में से एक में और यूरोप में प्रति 10 लाख लोगों में से एक में यह ब्लड ग्रुप पाया जाता है। इस ब्लड ग्रुप की खोज 56 साल पहले की गई थी। वहीं, एक और ब्लड ग्रुप है जो इससे भी रेयर है, उसे ‘गोल्डन ब्लड ग्रुप’ कहा जाता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूरी दुनिया में इस ब्लड ग्रुप के लगभग 40 लोग ही पाए गए हैं|

All About Blood Groups1

वैज्ञानिकों के अनुसार, रेड ब्लड सेल में 342 एंटीजेंस होते हैं और ये एंटीजेंस मिलकर एंटीबॉडीज बनाने का काम करते हैं। किसी भी ब्लड ग्रुप का निर्धारण इन एंटीजेंस की संख्या पर डिपेंड करता है। सामान्य रूप से लोगों के ब्लड में 342 में से 160 एंटीजेंस होते हैं। अगर ब्लड में इसकी संख्या में 99% कमी देखने को मिलती है, तो उसे दुर्लभ श्रेणी में रखा जाता है। यही संख्या अगर 99.99% तक पहुंच जाती है, तो ये दुर्लभ से भी ज्यादा दुर्लभ हो जाता है.

दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा,आप हमें कमेंट द्वारा बता सकते है और हां आप हमें नीचे कमेंट में अपना ब्लड ग्रुप भी बताना ना भूलें…..|