Ind vs SA : 28 साल के इतिहास में तीसरी बार भारत ने ऐसी टीम उतारी टेस्‍ट में

0
106
indian team recent - Udta Social Official

साख बचाने के लिए बदल दी टीम

साउथ अफ्रीका के खिलाफ 0-2 से सीरीज में पिछड़ चुकी भारतीय टीम के लिए तीसरा टेस्‍ट साख बचाने के लिए है। भारत इस समय दुनिया की नंबर 1 टेस्‍ट टीम है। ऐसे में कोहली यह आखिरी टेस्‍ट जीतकर लाज बचाना चाहेंगे। पिछले दो टेस्‍ट में सही टीम सेलेक्‍शन न करने के कारण आलोचना झेल रहे कप्‍तान विराट कोहली ने जोहांसबर्ग के लिए बिल्‍कुल अलग टीम चुन ली। विराट ने इस टेस्‍ट के लिए जो प्‍लेइंग इलेवन चुनी वह पिछले 28 सालों में सिर्फ 3 बार देखने को मिली है।

 

28 साल के इतिहास में तीसरी बार देखा

दरअसल कोहली ने टीम में बड़ा बदलाव करते हुए रोहित शर्मा को बाहर का रास्‍ता दिखाया और उनकी जगह अजिंक्‍य रहाणे को टीम में वापस लिया।

वहीं आर अश्‍विन की जगह भुवनेश्‍वर कुमार को अंतिम ग्‍यारह में शामिल किया। यानी कि तीसरे टेस्‍ट में एक भी स्‍पेशलिस्‍ट स्‍िपनर नहीं खिलाया गया। साल 1990 के बाद यह तीसरा मौका है जब किसी टेस्‍ट में भारत ने कोई स्‍पिनर को टीम में शामिल नहीं किया।

 

ऐसे बदली थी टीम

विराट ने जोहांसबर्ग टेस्‍ट में पांच तेज गेंदबाज खिलाए हैं। इसमें हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह शामिल हैं। इससे पहले 1992 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में भारतीय टीम ने श्रीनाथ, एस बैनर्जी, कपिल देव और प्रभाकर सहित चार तेज गेंदबाज खिलाए थे। दूसरी बार 2012 में ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ वाका क्रिकेट ग्राउंड पर भारतीय टीम ने चार तेज गेंदबाजों को शामिल किया था। वाका टेस्ट में ईशांत शर्मा, जहीर खान, विनय कुनार और उमेश यादव को खिलाया गया था। वैसे यह फैसला उस वक्‍त भी हैरानी भरा था और आज भी क्‍योंकि टेस्‍ट में भारतीय स्‍पिनरों को हमेशा से विकेट मिलते आए हैं।

 

यह है भारत की अंतिम इलवेन :

विराट कोहली (कप्तान), लोकेश राहुल, चेतेश्वर पुजारा, मुरली विजय, अजिंक्य रहाणे, पार्थिव पटेल (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह।

 

भारत यहां कभी नहीं हारा

 

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए जोहिंसबर्ग हमेशा से खास रहा है। खासतौर से यहां का वांडरर्स मैदान तो भारतीय टीम को हमेशा फेवर करता है। साउथ अफ्रीका पिछले 25 सालों में इस मैदान पर भारत के खिलाफ 4 टेस्‍ट खेल चुकी हैं लेकिन वे भारत को कभी नहीं हरा पाए। उल्‍टा भारत ने एक मैच में मेजबान टीम को मात दी है। भारत का इस मैदान पर रिकॉर्ड काफी बेहतर है। भारत ने यहां कुल 4 टेस्‍ट खेले हैं जिसमें कि एक में जीत मिली, जबकि तीन ड्रा रहे। मेजबान द.अफ्रीका चाह कर भी भारत को यहां मात नहीं दे सका। मौजूदा सीरीज में भारत 0-2 से पहले ही पिछड़ चुका है, अब भारतीय टीम तीसरा टेस्‍ट जीतकर अपनी लाज जरूर बचाना चाहेगी। विराट कोहली चाहेंगे कि इस मैदान पर भारत का कभी न हारने वाला रिकॉर्ड कायम रहे।

 

Source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here