यहां लोग करते है बिच्छू का नशा, सिगरेट में भरकर पीते है बिच्छू।

0
128
scorpion - Udta Social Official
आज हर इंसान नशे का आदि है। नशाखोरी सेहत के लिए बुरी है। और इसमें भी सबसे बुरा है जहरीले जानवरों का नशा, जो चरस-गांजे और हेरोइन-पेरोइन से बहुत पावरफुल होता है। इस वक्त पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक नया नशा महामारी की तरह फैला है। यहां के लोग नशे की चरम सीमा तक पहुंचने के लिए सिगरेट में बिच्छू भरकर पी रहे हैं।

सिगरेट में बिच्छू भरकर पीते है लोग:

पाकिस्तान पख्तूनख्वा प्रांत वो जगह है जहां पर प्रचुर मात्र में गांजा, अफीम और चरस मिलता है। लेकिन कुछ गांवों के लोग इन पुराने नशों से बोर होने लगे हैं। उन्हें और ज्यादा चाहिए और खतरनाक जिससे वो नशे के चरम सीमा तक पहुच सके, इसलिए वे अब बिच्छू मारकर पी रहे हैं।

जा सकती है याददास्त:

यह उस व्यक्ति की मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करता है, जो इसे पीता है। इससे याददाश्त भी जा सकती है। बिच्छू के जहर में जो ड्रग मिलता है, वह बेहद जहरीला होता है, जिससे कई लोगों की जान चली जाती है।

ऐसे किया जाता है इस्तेमाल:

सबसे पहले बिच्छू को मार दिया जाता है। इसके बाद उन्हें धूप में सुखा लिया जाता है और फिर उसका पाउडर बनाया जाता है। इस पाउडर को एक कागज में भरकर उनका धूम्रपान किया जाता है। और ज्यादा नशा करने के लिए पाउडर में अफीम और तंबाकू के साथ मिलाया जाता है।