दर्द, सूजन या मसूड़ों से खून निकलता है, तो इन नुस्खों से तुरंत होगा लाभ

    0
    79
    Pain - swelling or bleeding gums - then these tips will be immediately benefited - Udta Social Official

    मसूड़ों की मजबूती दांतों की मजबूती के लिए जरूरी है। अगर मसूड़े कमजोर हैं तो वो दांतों को अच्छे से बांध नहीं पाएंगे और दांत उम्र से पहले ही झड़ जाएंगे। ज्यादातर लोग मुंह की समस्याओं का कारण दांत को समझते हैं और दांतों का ही इलाज करते हैं जबकि मुंह की ज्यादातर समस्याओं की जड़ मसूड़े होते हैं। इसलिए हमें अपने मसूड़ों का खयाल रखना चाहिए। मसूड़ों से जुड़ी तमाम परेशानियों को हम घरेलू नुस्खों द्वारा ठीक कर सकते हैं।

     

    सरसों का तेल

    सरसों का तेल मुंह के बैक्टीरिया को खत्म करता है।

    अगर आपके मसूड़ों में सूजन है या वे लाल हो गए हैं और इस वजह से उनमें दर्द है तो सरसों के तेल से इसे आसानी से ठीक किया जा सकता है। इसके लिए रूई के फाहे को सरसों के तेल में भिगाकर उसे सूजन और दर्द वाली जगह पर रख लें। इससे 10 मिनट में ही आपको दर्द से राहत मिलेगी और सूजन भी खत्म हो जाएगी। सरसों का तेल मसूड़ों ही नहीं दांतों के लिए भी फायदेमंद है। लेकिन ध्यान रहे कि आप अच्छी क्वालिटी का तेल इस्तेमाल करें। केमिकल युक्त सरसों के तेल से दांतों के इनेमल को नुकसान पहुंचता है।

     

    तेज पत्ता

    तेज पत्ता सूखे मसाले के रूप में प्रयोग किया जाता है लेकिन आयुर्वेद में तेज पत्ता को औषधि भी माना गया है जिसमें दर्द नाशक गुण होते हैं। मसूड़ों के सूजन और दर्द के लिए तेज पत्ता एक अच्छा उपचार है। इसके लिए पानी में तेज पत्तियों को 15-20 मिनट तक उबाल लें। फिर इस पानी को छानकर किसी बोतल में भर लें और दिन में कई बार इसे माउथ वाश की तरह इस्तेमाल करें। इसके अलावा इस पानी को गुनगुना करके दो चुटकी नमक मिलाकर पी लें। इससे दर्द और सूजन में तुरंत राहत मिलेगी।

     

    नीम

    नीम को पुराने समय से ही मुंह की समस्याओं के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। नीम में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं। दांतों और मसूड़ों के दर्द के लिए या सूजन के लिए आप नीम के ताजे पत्तों को अच्छी तरह धुल कर चबा सकते हैं। इसके अलावा रोजाना नीम की मुलायम छाल से मंजन करने पर भी मुंह के सभी साधारण और गंभीर रोगों से छुटकारा मिलता है। आप चाहें तो नीम के पत्तों वाले टूथपेस्ट का भी रेगुलर इस्तेमाल कर सकते हैं। नीम मुंह की दुर्गंध को दूर करता है और इसे हानिकारक बैक्टीरिया से बचाता है।

     

    फिटकरी

    दर्द और सूजन को कम करने के लिए फिटकरी कारगर है। फिटकरी में भी एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। अगर मसूड़ों से खून निकलता है और दर्द होता है तो फिटकरी को पीसकर इसका पाउडर बना लें। अब इस फिटकरी के 10 ग्राम पाउडर को एक चम्मच शहद में मिलाकर सुबह जागने के बाद और रात को सोने से पहले मसूड़ों पर मालिश करें। इससे मसूड़ों से खून निकलना बंद हो जाएगा और उनमें दर्द और सूजन भी खत्म हो जाएगी।

     

    हल्दी

    हल्दी भी मसूड़ों और दांतों की तमाम समस्याओं को जड़ से खत्म करती है। मसूड़ों से खून निकलने पर हल्दी में थोड़ा सा शहद मिलाकर सूखा पेस्ट बना लें और खून निकलने वाली जगह पर रख लें इससे खून निकलना बंद हो जाएगा। अगर आपके मसूड़े कमजोर हैं या दांत अक्सर दर्द करते हैं या ठंडा-गर्म पानी लगता है तो भी हल्दी आपके बड़े काम की है। हल्दी की गांठ को आग में जला लें। अब इसे पीसकर इसकी राख में नमक मिलाएं। रोज मंजन के करने के बाद इस चूर्ण में चार बूंद सरसों का तेल लगाकर मसूड़ों और दांतों की मालिश करें। इससे मुंह, दांत, मसूड़े, जबान सब अच्छे रहेंगे। इससे रोजाना मालिश करने पर न तो आपको कभी दांतों में दर्द होगा और न मुंह की कोई अन्य समस्या होगी।

     

    Source: onlymyhealth

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here