प्रेग्नेंसी में महिला से जुड़े कुछ मिथक लेकिन सच्चाई कुछ और ही है!

0
84
Some myths associated with women in pregnancy but the truth is nothing else! - Udta Social Official

गर्भावस्था में महिला अपने होने वाले बच्चे के ख्यालों में खोई रहती है और कामना करती है कि उसका बच्चा स्वस्थ और चुस्त तंदुरुस्त पैदा हो। ऐसे में उसके आस-पास के लोग उसे बेहतर संतान के लिए कई सलाह भी देते हैं। जैसे कि फलां चीज खाओ बच्चा इससे बच्चा गोरा होगा, ऐसा करने से बच्चा सेहतमंद होगा।

 

क्या है सच्चाई:

 

# मिथक: गर्भावस्था में महिला के कमरे में अगर बच्चे की सुंदर सी तस्वीर लगेगी तो उसे देखते रहने से उसका होने वाली संतान भी उतनी ही सुंदर पैदा होगी।

सच्चाई: असल में बच्चे का चेहरा और उसकी शारीरिक बनावट उसके जेनेटिक गुणों पर निर्भर करते हैं ना कि सामने तस्वीर में दिख रहे खूबसूरत बच्चों के प्रभाव से आपका होने वाला बच्चा भी वैसा ही दिखेगा।

# मिथक: गर्भावस्था में महिला को हर सुबह दुध,दही,नारियल जैसे सफेद चीज खाने से, बच्चा गोरा पैदा होता है।

सच्चाई: अगर ऐसा सच में होता तो शायद इसका प्रयोग हर कोई गोरी संतान पैदा कर लेता और फिर तो कोई सांवला ही नही बचता। असल में बच्चे का रंग आनुवांशिकी पर निर्भर करता है।

# मिथक: गर्भावस्था में महिला के खाने-पीने के शौक और पसंद से होने वाले बच्चे का लिंग का अनुमान लगाया जा सकता है।

सच्चाई: असल में ऐसा कोई आधार या लक्षण नहीं है जिससे ये निर्धारित हो कि गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की।

# मिथक: ग्रहण लगने के दौरान गर्भवती महिला के बाहर निकलने से उसके बच्चे पर प्रभाव पड़ता है।

सच्चाई: दूसरे लोगों की तरह गर्भवती महिलाओं को भी ग्रहण के दौरान सामान्य सावधानियां बरतनी चाहिए। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि इससे आपके बच्चे पर गलत प्रभाव पड़ेगा।

# मिथक: गर्भावस्था में महिला को दो लोगों को बराबर डायट लेनी चाहिए ।

सच्चाई: असल में महिला को खाने की मात्रा डबल नहीं करनी है बल्कि अपने डाइट में हेल्दी खाद्य सांमग्रीयों को शामिल करना है फलों, हरी सब्जियों, दूध और दालों को शामिल करें।

 

source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here